क्‍या आप भी दर्द और सूजन से हैं परेशान, शोध में दावा- ऐसे रोगियों के लिए बेहद कारगर होगी ये दवा

 

मौजूदा दर्द निवारक दवाइयों को लंबे समय तक मरीज को नहीं दिया जा सकता

शोध में पाया गया है कि यह दवा सॉल्यूबल इपोक्साइ़ड हाइड्रोलेज नाम के एंजाइम को नियंत्रित करती है। मनुष्यों में दर्द एवं सूजन का एक महत्वपूर्ण कारण मानव शरीर में सॉल्यूबल इपोक्साइड हाइड्रोलेज नामक एंजाइम की अधिक सक्रियता है।

नई दिल्ली। दुनिया की करीब बीस प्रतिशत आबादी विभिन्न प्रकार के दर्द एवं सूजन के रोगों से प्रभावित है। इस संख्या में लगातार इजाफा भी हो रहा है। ऐसा माना जाता है कि दिल के रोगों का एक बड़ा कारण दर्द एवं सूजन भी है। इसलिए दर्द एवं सूजन कम करने वाली दवाओं का महत्व लगातार बढ़ रहा है। हाल ही में वनस्थली विद्यापीठ राजस्थान के फॉर्मेंसी विभाग के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक शोध में सामने आया है कि दिल के रोगों में इस्तेमाल होने वाली दवा डिगाक्सिन दर्द और सूजन को ठीक करने में सक्षम है।

यह शोध कार्य प्रतिष्ठित अमेरिकी जर्नल ड्रग डेवलपमेंट एंड रिसर्च में मार्च, 2022 में प्रकाशित हुआ है। वनस्थली विद्यापीठ के फॉर्मेंसी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर सर्वेश पालीवाल और उनकी टीम के सदस्यों डा. स्वप्निल शर्मा, डा. स्वाति पालीवाल एवं डा. सरस्वती पटेल द्वारा किए गए शोध में पाया गया है कि यह दवा सॉल्यूबल इपोक्साइ़ड हाइड्रोलेज नाम के एंजाइम को नियंत्रित करती है। मनुष्यों में दर्द एवं सूजन का एक महत्वपूर्ण कारण मानव शरीर में सॉल्यूबल इपोक्साइड हाइड्रोलेज नामक एंजाइम की अधिक सक्रियता है।

यह दवा इस एंजाइम पर अपना असर दिखाती है एवं इसकी सक्रियता को प्रभावी रुप से कम कर देती है। प्रोफेसर पालीवाल ने बताया कि यह शोध कार्य तीन साल पहले शुरू किया गया था और कई चरणों में चूहों पर कई तरह के परीक्षण करने के बाद पता चला कि मौजूदा दिल की दवा डिगाक्सिन बहुत कम मात्रा में सूजन एवं दर्द को कम करने की क्षमता रखती है। टीम के वैज्ञानिक डा. स्वप्निल ने बताया कि मौजूदा दर्द निवारक दवाइयों को लंबे समय तक मरीज को नहीं दिया जा सकता है, क्योंकि इनके कारण किडनी और लिवर पर काफी दुष्प्रभाव पड़ता है। इसलिए भारत और विश्व के संदर्भ में इस शोध का एक विशेष महत्व है।

प्रोफेसर पालीवाल के अनुसार इस ड्रग री-परपजिंग परियोजना में कंप्यूटर एडेड ड्रग डिजाइन एवं आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस तकनीक ने बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।