एनएसयूटी में अंतरराष्ट्रीय स्तर का सिंथेटिक ट्रैक बनकर होगा तैयार

 

खिलाड़ी अपनी खेल प्रतिभा को निखारकर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर का बना सकेंगे।

खास बात यह है कि इस सिंथेटिक ट्रैक का डिजाइन विश्व एथलेटिक्स संघ के मापदंडों पर आधारित है। इससे साफ है कि विश्वविद्यालय भविष्य में इस ट्रैक पर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता का भी आयोजन कर सकेगा।

नई दिल्ली surender Aggarwal। गुणवत्ता युक्त शिक्षा के साथ अब नेताजी सुभाष प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एनएसयूटी) में अंतरराष्ट्रीय स्तर के एथलीट भी तैयार होंगे। एनएसयूटी में 400 मीटर के सिंथेटिक एथलीट ट्रैक का निर्माण होने जा रहा है। अब खिलाड़ियों को सिंथेटिक एथलीट ट्रैक पर अभ्यास करने का मौका मिलेगा, जिससे वे अपनी खेल प्रतिभा को निखारकर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर का बना सकेंगे।

विश्वस्तरीय होगा डिजाइन

खास बात यह है कि इस सिंथेटिक ट्रैक का डिजाइन विश्व एथलेटिक्स संघ के मापदंडों पर आधारित है। इससे साफ है कि विश्वविद्यालय भविष्य में इस ट्रैक पर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता का भी आयोजन कर सकेगा। आठ लेन का सिंथेटिक ट्रैक बनाने के लिए स्पोर्ट्स अथारिटी आफ इंडिया ने अपनी मंजूरी प्रदान कर दी है। कुलपति जय प्रकाश सैनी ने बताया कि खेलों को बढ़ावा देने के लिए विश्वविद्यालय ने मार्च में ही तीन दिवसीय आल दिल्ली गवर्नमेंट इंटर यूनिवर्सिटी स्पोटर्स टूर्नामेंट का आयोजन किया था।

यहां से निकलेंगे शानदार खिलाड़ी

इससे पूर्व भी कई खेल प्रतियोगिताएं विश्वविद्यालय में आयोजित हुई है। अब वाे दिन दूर नहीं जब विश्वविद्यालय से मिल्खा सिंह व हेमादास जैसे उम्दा खिलाड़ी देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। जय प्रकाश सैनी ने बताया कि यह सिंथेटिक ट्रैक विश्व एथेलेटिक्स संघ के मानकों को ध्यान में रखकर तैयार किया जाएगा। बता दें, यह संघ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित की जाने वाली एथलेटिक्स खेलों के आयोजन, संचालन और उसमें भाग लेने वाले खिलाड़ियों के चयन संबंधी सभी गतिविधियों को नियंत्रित करती है। इस ट्रैक में अब एथेलेटिक्स की खेल गतिविधियां जिनमें विभिन्न दौड़ जैसे बाधा दौड़, रिले दौड़ व फेंकने वाले खेल जिसमें चक्का फेंकना, भाला फेंकना, गोला फेंकना और कूदने वाले खेल जिसमें लंबी कूद, छोटी कूद शामिल हैं, आयोजित की जा सकेंगी।

सात करोड़ के बजट का आकलन

अधिशासी अभियंता प्रदीप देशवाल ने बताया कि सिंथेटिक ट्रैक को बनाने के लिए सात करोड़ के बजट का आंकलन किया गया है। उम्मीद है जून में इसका टेंडर पारित हो जाएगा। इसके अलावा विश्वविद्यालय परिसर में इंडौर स्पोटर्स सेंटर का भी निर्माण किया जा रहा है। तीन मंजिला इस इमारत में तरणताल, जिम, बैडमिंटन व बास्केट बाल कोर्ट बनाया जाएगा।