गुजरात में भाजपा के चिंतन शिविर में मंथन, बनेगी ये रणनीति

 

गुजरात भाजपा के 'चिंतन शिविर' में शिरकत करने पहुंचे अमित शाह। फोटो एएनआइ

Gujarat अमित शाह और सीएम भूपेंद्र पटेल अहमदाबाद जिले में गुजरात भाजपा के दो दिवसीय चिंतन शिविर में शिरकत करने पहुंचे हैं। विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात भाजपा के दो दिवसीय चिंतन शिविर में सरकार व संगठन के कामकाज की समीक्षा हो रही है।

अहमदाबाद, एएनआइ। गुजरात में भाजपा का दो दिवसीय चिंतन शिविर शुरू हो गया है। चिंतन शिविर में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीति बन रही है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और सीएम भूपेंद्र पटेल अहमदाबाद जिले में 'चिंतन शिविर' में शिरकत करने पहुंचे हैं। विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात भाजपा के चिंतन शिविर में सरकार व संगठन के कामकाज की समीक्षा होगी। साथ ही, अहम चुनावी कार्यों की जिम्मेदारी भी तय की जाएगी। इसमें अमित शाह व भूपेंद्र यादव जैसे भाजपा के बड़े नेता भी शामिल हुए। चिंतन शिविर में हार्दिक पटेल सहित कांग्रेस विधायकों के भाजपा में प्रवेश पर भी फैसला हो सकता है। चिंतन शिविर में विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीति बनेगी। सरकार के खिलाफ कांग्रेस महंगाई सहित कई मुद्दों को लेकर हमलावर है। आम आदमी पार्टी (आप) भी राज्य के स्कूलों व अस्पतालों को लेकर सरकार को कटघरे में खड़ा कर रही है। आप ने राज्य में मुफ्त पानी व बिजली के मुद्दे को भी उछालना शुरू कर दिया है। प्रदेश भाजपा फिलहाल जवाब देने से बच रही है, लेकिन चुनाव से पहले इन चुनौतियों का सामना करने के लिए भाजपा खुद को तैयार करना चाहती है।चिंतन शिविर में ये नेता भी हुए शामिल

चिंतन शिविर से राज्य के मंत्रियों, सांसदों और विधायकों को अलग रखा गया है। इसमें सिर्फ 40 दिग्गज नेता ही शामिल होंगे। कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल, विधानसभा में विपक्ष के सचेतक शैलेष परमार जैसे कुछ बडे़ नेता भी भाजपा के संपर्क में हैं, जिस पर भी पार्टी को फैसला लेना है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री प्रदीप सिंह और मीडिया प्रभारी यज्ञेश दवे बताते हैं कि गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल की अध्यक्षता में जिले के बावला कस्बे के केंसविले में होने वाले चिंतन शिविर में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री व गुजरात प्रभारी भूपेंद्र यादव सहित भाजपा के वरिष्ठ नेता शामिल हुए। गुजरात में इसी साल के अंत में विधानसभा के चुनाव होने हैं।