दिल्ली की जेजे कालोनी की सरकारी जमीन पर कब्जा कर बनाए धार्मिक स्थल, कई मस्जिद भी निशाने पर

 

वर्षो से बवाना जेजे कालोनी में सरकारी जमीन पर कब्जा करने का खेल चल रहा है।

Delhi Encroachment News जब उन्होंने इसका विरोध किया तो अतिक्रमणकारी ने कहा ‘छोटे से धार्मिक स्थल से क्या अतिक्रमण होगा।’ इसके बाद अब लोगों की धार्मिक भावनाएं धार्मिक स्थल से जुड़ गई हैं। साथ ही पड़ोस में कोई विवाद न हो इसलिए वे कुछ बोल भी नहीं पा रहे हैं।

नई दिल्लीAnuradha Aggarwal । बवाना जेजे कालोनी के पार्को में धड़ल्ले से मस्जिदों का निर्माण किया जा रहा है। इस वजह से बच्चों के खेलने व बुजुर्गो के टहलने की जगह खत्म होती जा रही है। सरकारी जमीन पर किए जा रहे धार्मिक स्थलों के निर्माण को लेकर स्थानीय लोग काफी नाराज हैं। अब जिस तरह से नगर निगम ने दिल्ली में अतिक्रमण व अवैध निर्माण के खिलाफ अभियान छेड़ा है, ऐसे में लोग आस लगाकर बैठे हैं कि बवाना जेजे कालोनी के पार्को से भी जल्द अतिक्रमण हटाया जाएगा।

विडंबना है कि कुछ लोग धर्म के नाम पर इस तरह के अतिक्रमण व अवैध निर्माण को बढ़ावा दे रहे हैं। पहले वह झुग्गी डालकर छोटा सा धार्मिक स्थल बनाते हैं और फिर धीरे-धीरे उसे बड़ा रूप दे दिया जाता है। जैसे-जैसे चंदा इकट्ठा होता रहता है, वैसे वैसे धार्मिक स्थल बड़ा होता रहता है। फिलहाल, बवाना जेजे कालोनी में 20 से ज्यादा छोटे-बड़े धार्मिक स्थल हैं, जिनमें से 10 से ज्यादा सरकारी जमीन (दिल्ली शहरी आवास बोर्ड, नगर निगम, डीडीए) पर अवैध रूप से बनाए गए हैं। बवाना जेजे कालोनी के बी, सी व डी ब्लाक में अभी भी धार्मिक स्थलों पर निर्माण जारी है।

पार्को में धार्मिक स्थल बनाने का ही नतीजा है कि अब बवाना जेजे कालोनी के 80 फीसद बच्चे, युवा, बुजुर्ग व महिलाएं सड़कों पर खेलने व टहलने को मजबूर हैं। सुबह से शाम तक बवाना से नरेला रोड पर सैकड़ों की संख्या में लोग दिखाई देते हैं। स्थानीय निवासी संजय ने शुक्रवार को बताया कि वर्षो से बवाना जेजे कालोनी में सरकारी जमीन पर कब्जा करने का खेल चल रहा है।

पहले छोटा सा धार्मिक स्थल बना दिया जाता है और फिर उसे बड़ा कर दिया जाता है। जब इस बारे में शिकायत की जाती है तो दिन के समय तो निर्माण कार्य रोक दिया जाता है, लेकिन रात के अंधेरे में निर्माण कार्य जारी रहता है। उन्होंने बताया कि ब ब्लाक के धार्मिक स्थल का दरवाजा रात ही रात में सड़क की तरफ बना दिया गया। अब इलाके के बच्चों के पास खेलने के लिए कोई जगह नहीं है। बच्चे सड़कों पर खेलते हैं।

इलाके के विरेंद्र सिंह ने बताया कि बवाना जेजे कालोनी के हर पार्क पर अवैध रूप से धार्मिक स्थल बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि उनके घर के बाहर भी एक धार्मिक स्थल बनाया जा रहा था। जब उन्होंने इसका विरोध किया तो अतिक्रमणकारी ने कहा, ‘छोटे से धार्मिक स्थल से क्या अतिक्रमण होगा।’ इसके बाद अब लोगों की धार्मिक भावनाएं धार्मिक स्थल से जुड़ गई हैं। साथ ही पड़ोस में कोई विवाद न हो, इसलिए वे कुछ बोल भी नहीं पा रहे हैं।

सैकड़ों झुग्गियां बना रखी हैं सरकारी जमीन पर: सूत्रों के अनुसार बवाना जेजे कालोनी में सभी लोगों के घर हैं। लोग घरों को किराये पर देकर सरकारी जमीन पर झुग्गियां बनाकर रहते हैं। वर्तमान में बवाना जेजे कालोनी में सैकड़ों लोग झुग्गियों में रहते हैं। इन झुग्गियों में कई तरह के नशे की बिक्री भी खुलेआम होती है।

  • बवाना जेजे कालोनी के पार्को में अवैध निर्माण की जानकारी प्राप्त हुई है। पता किया जाएगा कि नगर निगम की जगह पर अवैध निर्माण किया गया है या किसी दूसरे विभाग की। मामले की जांच कर कार्रवाई शुरू की जाएगी।रणजीत सिंह, निगम उपायुक्त, नगर निगम नरेला
जोन