भगवान बुद्ध के विचारों के कारण आज विश्व में भारत और भारतीयों को मिल रहा सम्मान

 

भारतीय बौद्ध संघ ने किया बुद्ध पूर्णिमा कार्यक्रम का भव्य आयोजन

केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री जॉन बारला ने कहा कि भगवान बुद्ध के विचारों के कारण आज विश्व में भारत और भारतीयों को सम्मान मिल रहा है। उन्होंने शिक्षा नीति में बुद्ध के विचारों को समाहित करने की बात कहीं।

नई दिल्ली । भारतीय बौद्ध संघ की ओर से तथागत गौतम बुद्ध की 2584वीं जयंती के उपलक्ष्य में रविवार को नई दिल्ली में बुद्ध पूर्णिमा कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया गया। केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री डॉ सुभाष सरकार कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता भारतीय बौद्ध संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष भंते संघप्रिय राहुल ने की।

कार्यक्रम में भंते संघप्रिय राहुल ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुद्ध पूर्णिमा कार्यक्रम के आयोजन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए अपना संदेश भेजा है और कहा है कि भगवान बुद्ध का जीवन मानवता के लिए एक वरदान है। ‘अप्प दीपो भव’ के रूप में उन्होंने जीवन में उन्नति का मूल मंत्र दिया है। भंते राहुल ने कहा कि बुद्ध पूर्णिमा भारत में ही नहीं, विश्व के अनेक देशों में मनाई जाती है। पाकिस्तान में मंदिरों में बौद्ध मूर्तियों को तोड़े जाने को निंदनीय बताते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय लोग सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलने वाले हैं, परंतु पाकिस्तान के गलत कार्यों का भारत मुंह तोड़ जवाब देना जानता है।

केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री जॉन बारला ने कहा कि भगवान बुद्ध के विचारों के कारण आज विश्व में भारत और भारतीयों को सम्मान मिल रहा है। उन्होंने शिक्षा नीति में बुद्ध के विचारों को समाहित करने की बात कहीं। बारला ने कहा कि उनका मंत्रालय जरूरतमंद लोगों के लिए योजनाएं बनाता है। बौद्ध धर्म को मानने वालों की सहायता के लिए कैसी योजनाएं बनाई जाएं, इस बारे में भंते संघप्रिय राहुल से विचार-विमर्श किया जाएगा।

पूर्व सांसद डॉ अनीता आर्य ने भारतीय बौद्ध संघ को कार्यक्रम के आयोजन पर बधाई देते हुए कहा कि संघ महात्मा बुद्ध के विचारों और सिद्धांतों का निरंतर प्रचार-प्रसार करता रहता है। उन्होंने कहा कि डॉ भीमराव अम्बेडकर ने बौद्ध धर्म को अपनाया, ताकि समाज की रक्षा हो सके।

केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री डॉ सुभाष सरकार ने कहा कि बुद्ध का शांति, मानवता और समानता का संदेश आज भी अत्यधिक प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि जीवन की पूर्णता के लिए अपने आचरण में बुद्ध के विचारों और मूल्यों को अपनाए जाने की आवश्यकता है। विश्व हिंदू परिषद के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष कपिल खन्ना ने कहा कि विश्व के सामने आज जो भी समस्याएं है, उनका समाधान भगवान बुद्ध के संदेश में है।

भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि यह एक अद्भुत घटना है कि जिस दिन गौतम बुद्ध का जन्म हुआ, उसी दिन उन्हें ज्ञान प्राप्त हुआ और उसी दिन उनका महापरिनिर्वाण भी हुआ। उन्होंने कहा कि आज दुनिया में अतिवाद का बोलबाला है, जिसे बुद्ध के अहिंसा, प्रेम और अपरिग्रह जैसे मूल्यों को अपनाने से समाप्त किया जा सकता है। आज कई देश बुद्ध के विचारों और सिद्धांतों पर चलते हुए प्रगति कर रहे हैं। डॉ अम्बेडकर ने भी जीवन में बुद्ध के विचारों को अपनाया और हमारा संविधान भी बुद्ध के संदेशों से प्रेरित है। भगवान बुद्ध ने सम्यक मार्ग या अष्ट मार्ग का जो रास्ता बताया और उसी के आधार पर जीवन पूर्णता की ओर बढ़ सकता है। इस अवसर पर पांच बौद्ध भिक्खुओं को चीवर (वस्त्र) भी प्रदान किए गए।