करोड़ों भारतीयों के लिए बुढ़ापे का सुकून है मोदी सरकार की यह योजना, जानिये निवेश संबंधी पूरी डिटेल

 

प्राइवेट जाब करने वाले करोड़ों भारतीयों के लिए बुढ़ापे का गिफ्ट है मोदी सरकार की यह योजना, जानिये पूरी डिटेल

Atal Pension Yojana यह योजना सभी असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपको 20 वर्ष तक निवेश करना होता है और यह निवेश आप 18 वर्ष की आयु से लेकर 40 वर्ष की आयु तक कर सकते हैं।

नई दिल्ली, डिजिटल डेस्क। अगर आप प्राइवेट नौकरी/जाब करते हैं और बुड़ापे में किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते हैं तो केंद्र सरकार की अटल पेंशन योजना (Atal Pension yojana) में निवेश कर अच्छी पेंशन पा सकते हैं। इस योजना के तहत कुछ रकम निवेश करने वालों को 60 वर्ष के बाद 1000 से 5000 रुपये के बीच मासिक पेंशन दी जाएगी। नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा 1 जून 2015 को शुरू की गई इस पेंशन स्कीम को कोई भी ले सकता है। यहां पर बता दें कि अटल पेंशन योजना की रकम का मिलना इस बात पर निर्भर होगा कि लाभार्थी ने प्रतिमान कितना प्रीमियम दिया है। इसके साथ यह भी जरूरी है कि किस उम्र से निवेश करना आरंभ किया है।

20 वर्ष तक करना होता है निवेश

2022 केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा 1 जून 2015 को शुरू की गयी थी। इस योजना में 18 से 40 वर्ष के लोग शामिल हो सकते है, योजना में शामिल होने पर आपको 60 वर्ष की उम्र तक प्रीमियम राशि यानी किस्त जमा करनी होती है। इसके निवेश की गई रकम के मुताबिक, 1000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक पेंशन मिलती है।

पात्रता और जरूरी कागजात

  • आवेदक भारतीय नागरिक होना चाहिए 
  • उम्मीदवार की आयु 18 से 40 वर्ष होनी चाहिए 
  • आवेदक का बैंक खाता होना चाहिए तथा बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए 
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • पहचान पत्र
  • स्थायी पता का प्रमाण
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए बैंक खाता होना अनिवार्य है
  • अटल पेंशन योजना का लाभ केवल वही नागरिक उठा सकते हैं जो इनकम टैक्स स्लैब से बाहर है

जानिये यह जरूरी बात

  • अटल पेंशन योजना के अगर निवेशक अनुदान नहीं करता है तो उसका अकाउंट 6 महीने बाद फ्रीज कर दिया जाएगा।
  • निवेशक ने कोई निवेश नहीं किया है तो 12 महीने के बाद उसका अकाउंट डीएक्टिवेट कर हो जाएगा।
  • वहीं, 24 महीने यानी 2 साल बाद उसका अकाउंट बंद ही कर दिया जाएगा।
  • आवेदक समय से भुगतान नहीं कर पाता है तो उसे पेनल्टी देनी होगी। नियमानुसार यह पेनल्टी प्रतिमाह की 1 रुपये से लेकर 10 रुपये तक है।

18-40 वर्ष के बीच का व्यक्ति कर सकते हैं निवेश

अटल पेशन योजना का लाभ उठाने के लिए कम से कम 20 वर्ष यानी 60 वर्ष की उम्र पूरी होने तक निवेश करना होता है। योजना के अनुसार, कोई भी भारतीय नागरिक को इसका लाभ ले सकता है। इसके 18 वर्ष की आयु से लेकर 40 वर्ष की आयु तक तक कोई भी निवेश कर सकता है। नियमानुमार,  60 वर्ष की उम्र के बाद अटल  पेंशन की राशि प्रदान की जाती है। इस योजना के अंतर्गत 1000, 2000, 3000 और 5000 की पेंशन दी जाएगी।

नियमों के मुताबिक, अटल पेंशन योजना में 60 वर्ष से पहले रकम निकालने का प्रावधान नहीं है। विपरीत हालात में विभाग द्वारा इसकी अनुमति दी गई है। मसलन अगर निवेशक का निधन हो जाता है तो यह रकम निकाली जा सकती है।

असामयिक निधन पर आश्रित को मिलता है फायदा

अटल पेंशन योजना के तहत पेंशन की धनराशि शख्स द्वारा किए गए निवेश और उम्र के हिसाब से तय की जाती है। अन्य बीमा और पेंशन योजना की तरह अटल पेंशन योजना में भी कोई भी शख्स असामयिक मृत्यु की दशा में अपने परिवार को भी इसका फायदा दिलवा सकता है।

ईपीएफओ से अधिक मिल सकती है पेंशन

राज्य कर्मचारी निगम के तहत तकरीबन 6 करोड़ कर्मचारी है, लेकिन इन्हें अच्छी पेंशन नहीं मिलती है। ऐसे में कुछ प्राइवेट कर्मचारियों ने अटल पेंशन योजना में भी निवेश किया है और कर रहे हैं। मार्च 2022 तक अटल पेंशन योजना के अंतर्गत 99 लाख अकाउंट खोले गए हैं। फिलहाल योजना के अंतर्गत कुल खातों की संख्या 4.01 करोड हो गई है। 

अटल पेंशन योजना निकासी

60 वर्ष पूरे होने के बाद अटल पेंशन योजना से ग्राहक निकासी कर सकता है। इस स्थिति में ग्राहक को पेंशन निकासी के बाद पेंशन प्रदान की जाएगी। वहीं, अगर निवेशक का निधन हो जाता है तो पेंशन की राशि निवेश के पति अथवा पत्नी को मिल जाएगी। इतना ही नहीं, अगर दोनों की मृत्यु हो जाती है तो पेंशन नामिनी को लौटा दिया जाएगा।