इस बार तय समय से पहले ही दिल्ली-NCR को भिगो सकता है मानसून

 

Monsoon 2022: इस बार तय समय से पहले ही दिल्ली-NCR को भिगो सकता है मानसून

Monsoon 2022 मौसम विज्ञानियों के अनुसार केरल में समय पूर्व पहुंचने के पश्चात अगर आगे भी इसकी प्रगति सामान्य रहती है तो दिल्ली में भी यह चार पांच दिन पहले पहुंचना तय है। प्री-मानसून गतिविधियां इससे पूर्व ही होने लगेंगी।

नई दिल्लीsurender Aggarwal । भीषण गर्मी और लू की चपेट में चल रही दिल्ली को इस साल मानसून की बारिश तय तिथि से कुछ दिन पहले ही भिगो सकती हैं। राजधानी दिल्ली में मानसून आने की तय तिथि है 27 जून, लेकिन अबकी बार 22 जून के आसपास ही इसकी दस्तक हो सकती है। खास बात यह कि इसकी शुरुआत भी अच्छी ही रहने का अनुमान है। गौरतलब है कि केरल में दक्षिणी पश्चिमी मानसून की दस्तक एक जून को होती है।

वहीं शुक्रवार को जारी पूर्वानुमान में स्काईमेट वेदर ने इस साल के लिए यह तिथि 26 मई, जबकि मौसम विभाग ने 27 मई बताई है। कहने का अभिप्राय तय तिथि से पांच दिन पहले।

स्काईमेट के अनुसार जुलाई तक मानसून पर ला नीना की सक्रियता का असर दिल्ली के मानसून को भी प्रभावित करेगा। इसकी वजह से अच्छी बारिश होने की संभावना है। इसके बाद ला नीना के न्यूट्रल हो जाने से अगस्त और सितंबर में बाारिश में कुछ कमी आएगी लेकिन मानसून रहेगा तब भी सामान्य ही।

बता दें कि सामान्य तौर पर सितंबर के अंत तक मानसून की वापसी होने लगती है. लेकिन इस महीने भी थोड़े-थोड़े अंतराल पर बारिश की संभावना है। कुल मिलाकर राजधानी में मानसून के चार महीनों के दौरान सामान्य या इससे अधिक बारिश होने की उम्मीद अधिक है।

महेश पलावत, उपाध्यक्ष (मौसम विज्ञान एवं जलवायु परिवर्तन), स्काईमेट वेदर) का कहना है कि दिल्ली में इस साल मानसून समय पूर्व आ सकता है और बारिश भी सामान्य से अच्छी ही रहने के आसार हैं। ला नीना के असर से जुलाई में अच्छी और अगस्त- सितंबर में सामान्य बारिश होगी। कोई नया रिकार्ड बनने या अक्टूबर माह में भी बारिश जारी रहने को लेकर अभी कुछ कह पाना सटीक नहीं होगा।