रेलवे घोटाला में सीबीआइ ने जीएम, डीजीएम को उठाया, झारखंड, बिहार, हरियाणा के 12 ठिकानों पर छापेमारी

 

    CBI Raid Latest News: रेलवे घोटाला में सीबीआइ ने झारखंड, बिहार, हरियाणा के 12 ठिकानों पर छापेमारी की।

    CBI Raid Latest News केंद्रीय जांच एजेंसी ने रेलवे की ईकाई रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनोमिक सर्विसेज के जीएम-डीजीएम समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया है। एक साथ 12 ठिकानों पर छापेमारी में 65.5 लाख रुपये नकदी संपत्ति से संबंधित दस्तावेज बरामद किए हैं।

    रांची, राज्य ब्यूरो। CBI Raid Latest News केंद्र सरकार के उपक्रम रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनोमिक सर्विसेज (राइट्स) के रांची के अशोक नगर, मंदिर मार्ग स्थित कार्यालय में दस्तावेज में हेराफेरी, बिल भुगतान के एवज में ठेकेदार के कर्मी से दो लाख 72 हजार 500 रुपये रिश्वत लेते सीबीआइ ने सभी आरोपितों को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार आरोपितों में राइट्स के महाप्रबंधक (परियोजना) अभय कुमार, उप महाप्रबंधक (परियोजना) राजीव रंजन व देवघर की हरदेव कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के कर्मी शशि को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपितों की निशानदेही पर शुक्रवार को सीबीआइ ने इस प्रकरण में इस कांड से जुड़े सभी आरोपितों के रांची, पटना, देवघर, गुरुग्राम व रामगढ़ स्थित 12 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की, जिसमें सीबीआइ ने 65.5 लाख रुपये नकदी, संपत्ति से संबंधित दस्तावेज आदि की बरामदगी की है।

    दर्ज प्राथमिकी के अनुसार देवघर की हरदेव कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड (एचसीपीएल) व मध्य प्रदेश के सतना की मेहरोत्रा बिल्डकान प्राइवेट लिमिटेड (एमबीपीएल) की संयुक्त उपक्रम कंपनी को पतरातू स्थित परियोजना का ठेका दिया गया था। सीबीआइ की रांची स्थित भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को विश्वस्त सूत्रों से जानकारी मिली थी कि राइट्स के अधिकारी टेंडर को सुचारू बनाने व ठेकेदार के बिल भुगतान के लिए ठेकेदार से रिश्वत लेकर नियम विरुद्ध जाकर, मापन पुस्तिका व बिल में हेराफेरी कर रहे हैं।

    ठेका कंपनी एचसीपीएल के पतरातू स्थित परियोजना में पहली किश्त के रूप में अधिकारियों ने रिश्वत की पहली किश्त के रूप में पांच लाख रुपये भी ले लिया था। गत 19 अप्रैल के बाद से ही राइट्स के दोनों अधिकारियों व ठेका कंपनी के संचालक तथा कर्मी के बीच रिश्वत की राशि के लेन-देने संबंधित प्रक्रिया शुरू हुई। 28 अप्रैल को ठेका कंपनी ने पहली किश्त के रूप में पांच लाख रुपये का भुगतान किया। दूसरी किश्त के रूप में पांच लाख रुपये की रिश्वत की बात थी।

    इसके एवज में ही देवघर स्थित हरदेव कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के कर्मी शशि कुमार ने डीजीएम राजीव कुमार रिश्वत के रूप में दो लाख 72 हजार 500 रुपये की रिश्वत दी। राजीव कुमार ने उक्त राशि महाप्रबंधक को दी। सीबीआइ ने इसके लिए पहले से ही जाल बिछा रखा था, जिसके बाद तीनों को मौके से ही दबोच लिया। तीनों ही आरोपितों को सीबीआइ ने न्यायालय में प्रस्तुत किया और न्यायालय के आदेश के बाद उन्हें रिमांड पर लिया है।

    इनके विरुद्ध दर्ज की गई है प्राथमिकी

    1. अभय कुमार : महाप्रबंधक (परियोजना), राइट्स रांची व आवासीय कार्यालय आर्य समाज मंदिर रोड, लेन नंबर चार, जीवनश्री अपार्टमेंट के पीछे, पटना तथा हाउस नंबर तीन, हरिवाटिका बेतिया, पश्चिम चंपारण बिहार व राइट्स, 146/सी, मंदिर मार्ग, अशोक नगर, रांची।
    2. कुमार राजीव रंजन : उप महाप्रबंधक (परियोजना), राइट्स रांची व आवासीय कार्यालय ग्रीन रेसिडेंसी के पीछे, सरहाना चौक के समीप, तेतर टोली, मोरहाबादी रांची। स्थाई पता हाउस नंबर 40, द्वितीय तल्ला, हनुमान नगर, पुनाईचक के समीप, एसबीआइ के पीछे, राजबंशी नगर, पटना व रांची के अशोक नगर, मंदिर मार्ग स्थित राइट्स का कार्यालय।
    3. अवतार सिंह : हरदेव कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के मालिक, आवास हाउस नंबर 21, राय कंपनी, स्टेशन रोड देवघर, आवास नंबर 1928, सेक्टर 45, झर्सा, फारुखनगर, गुरुग्राम, हरियाणा व हरदेव कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड, हाउस नंबर 21, राय कंपनी, स्टेशन रोड देवघर।
    4. शशि कुमार : हरदेव कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड देवघर का कर्म
  1. ी।
  2. अन्य अज्ञात।