सिखों के कातिलों को सजा दिला रही है भाजपा सरकारः भोगल

 

उन्होंने कहा कि यदि मोदी व योगी की सरकार नहीं बनती तो सिखों के गुनहगारों को सजा नहीं मिलती।

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद विशेष जांच दल (एसआइटी) का गठन हुआ लेकिन गवाहों को पेश करना बड़ी चुनौती थी। किसी तरह से गवाहों को पेश किया गया और सिखों की हत्या करने वाले 60 लोगों की पहचान हो सकी।

नई दिल्ली surender Aggarwal । सिख विरोधी दंगे के पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लड़ने वाले भाजपा नेता कुलदीप सिंह भोगल ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार सिखों के हित में काम कर रही है। भाजपा की सरकार बनने के बाद 1984 के सिख विरोधी दंगे के दोषियों को सजा मिल रही है। कानपुर में सिखों की हत्या करने वाले चार लोग पकड़े गए हैं।

प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि 1984 में कानपुर में 127 सिख मारे गए थे, लेकिन उस समय की कांग्रेस सरकार मृतकों का नाम बाहर नहीं आने दी थी। जब वहां भाजपा की सरकार आई और राजनाथ सिंह मुख्यमंत्री बने तो मरने वाले सिखों के नाम सार्वजिक किए गए। उसके बाद पीड़ित परिवारों को न्याय दिलाने की लड़ाई शुरू हो सकी। वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी की सरकार बनने के बाद न्याय दिलाने की लड़ाई में तेजी आई।

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद विशेष जांच दल (एसआइटी) का गठन हुआ, लेकिन गवाहों को पेश करना बड़ी चुनौती थी। किसी तरह से गवाहों को पेश किया गया और सिखों की हत्या करने वाले 60 लोगों की पहचान हो सकी। एसआइटी का कार्यकाल चार माह के लिए बढाया गया है और चार आरोपितों की गिरफ्तारी हो गई है।

उम्मीद है कि जल्द ही अन्य आरोपित भी पकड़े जाएंगे। उन्होंने कहा कि यदि मोदी व योगी की सरकार नहीं बनती तो सिखों के गुनहगारों को सजा नहीं मिलती। दिल्ली में हुए दंगों के लिए दोषी सज्जन कुमार आज जेल में हैं। गृहमंत्री अमित शाह ने विश्वास दिलाया है कि सिखों के खिलाफ दंगे के सभी दोषियों को सजा दिलाना सरकार का काम है।

Popular posts
अग्निपथ के खिलाफ प्रदर्शन उग्र, रेल- मेट्रो सेवाओं पर पड़ा असर; सिंकदराबाद में पुलिस फायरिंग में एक की मौत
Image
यूपी के पांच लाख से ज्यादा युवाओं के लिए गुड न्यूज, दो महीने के भीतर मिलेंगे फ्री टैबलेट और स्मार्टफोन
Image
मुलायम सिंह की छोटी बहू व भाजपा नेता अपर्णा यादव को मिली जान से मारने की धमकी, परिवार में मचा हड़कंप
Image
लखीमपुर खीरी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने दिया रिटायर्ड हाईकोर्ट जजों की निगरानी में केस की जांच कराने का प्रस्ताव
Image
कानपुर के झकरकटी बस अड्डे पर यात्रियों की नहीं हो रही थर्मल स्कैनिंग, जल्दबाजी में दिखा गाइडलाइन का उल्लंघन
Image