NTAGI 6-12 साल के लिए Covaxin और Corbevax के डेटा की करेगा समीक्षा

 

सरकारी सलाहकार समिति (NTAGI) की गुरुवार को बैठक होगी

सरकारी सलाहकार समिति (NTAGI) की गुरुवार को बैठक होगी जिसमें 6-12 आयु वर्ग के कोवैक्सीन और कॉर्बेवैक्स टीकों के आंकड़ों की समीक्षा की जाएगी। साथ ही दूसरी और एहतियाती खुराक के बीच के अंतर को मौजूदा नौ से घटाकर छह माह करने पर भी विचार-विमर्श किया जाएगा।

नयी दिल्ली, प्रेट्र। सरकारी सलाहकार समिति (NTAGI) की गुरुवार को बैठक होगी, जिसमें 6-12 आयु वर्ग के कोवैक्सीन और कॉर्बेवैक्स टीकों के आंकड़ों की समीक्षा की जाएगी। साथ ही दूसरी और एहतियाती खुराक के बीच के अंतर को मौजूदा नौ से घटाकर छह माह करने पर भी विचार-विमर्श किया जाएगा। टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) देश में कोरोना के मामलों में वृद्धि के बीच अपनी बैठक करेगा। वर्तमान में 12 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों को कोरोना के खिलाफ टीका लगाया जाता है।

एनटीएजीआई की स्थायी तकनीकी उप-समिति (एसटीएससी) की बैठक के एजेंडे में सीएमसी वेल्लोर के एक अध्ययन पर चर्चा शामिल है, जिसमें प्राथमिक टीकाकरण के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले से अलग एक कोविड ​​-19 वैक्सीन की एहतियाती खुराक की अनुमति देने की व्यवहार्यता पर चर्चा शामिल है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि बच्‍चों की जनसंख्या और ZyCoV-D वैक्सीन की ज्‍यादा समय की सुरक्षा पर भी चर्चा की जाएगी।

भारत के दवा नियामक ने अप्रैल में बायोलाजिकल ई की कोवि‍ड वैक्सीन Corbevax के लिए पांच से 12 वर्ष की आयु के लोगों के लिए और भारत बायोटेक की Covaxin को छह से 12 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी थी। मई में क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज (सीएमसी) वेल्लोर के अध्ययन के निष्कर्षों की समीक्षा करने वाले एनटीएजीआई के कोविड वर्किंग ग्रुप ने बूस्टर शॉट्स के लिए जैब्स के मिश्रण पर परिणामों में एकरूपता की कमी पाई थी।

अध्ययन में कहा गया है कि वैज्ञानिक प्रमाणों से पता चला है कि कोवैक्‍सीन के साथ प्राथमिक टीकाकरण के बाद कोविशील्ड की बूस्टर खुराक देने से एंटीबाडी का स्तर 6 से 10 गुना अधिक होता है, जब प्राथमिक कार्यक्रम के बाद छह महीने के अंतराल के बाद कोवैक्सिन को एहतियाती खुराक के रूप में दिया जाता है। एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि हालांकि, वही लाभ नहीं देखा गया था जब कोवैक्सीन को बूस्टर शाट के रूप में दो कोविशील्ड खुराक के बाद दिया गया था।

कार्यक्रम संबंधी चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया कि इस मामले पर अंतिम सिफारिश के लिए एनटीएजीआई की एसटीएससी बैठक में चर्चा की जाएगी। साथ ही समिति ने मई में हुई बैठक में प्राथमिक अनुसूची की अंतिम खुराक और सुरक्षा खुराक के बीच के अंतराल को कम करने के लाभ के स्पष्ट प्रमाण की कमी का हवाला दिया। यह महसूस किया गया कि सत्र के लिए प्रस्तुत किए गए अध्ययनों में बहुमूल्य वैज्ञानिक जानकारी थी, लेकिन वर्तमान नीति प्रश्न के लिए फैसले लेने में सहायक नहीं थे।

इसके बाद आईसीएमआर को राष्ट्रीय वैक्सीन ट्रैकर प्लेटफार्म से डेटा निकालने के लिए कहा गया, ताकि ओमि‍क्रोन तरंग की शुरुआत से पहले प्राथमिक कार्यक्रम के पूरा होने के तीन, छह और नौ महीने बाद सफलता संक्रमण दर निर्धारित की जा सके और ओमि‍क्रोन लहर के साथ ओवरलैप किया जा सके।

यह बताया गया कि छह महीने बनाम नौ महीने में प्रशासित बूस्टर बनाम सुरक्षा खुराक की तुलनात्मक प्रभावी होने का कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। वर्तमान में 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग, जिन्होंने दूसरी खुराक लेने के नौ महीने पूरे कर लिए हैं, एहतियाती खुराक के लिए पात्र हैं। केंद्र सरकार ने पिछले महीने विदेश यात्रा करने वाले नागरिकों और छात्रों को गंतव्य देश के दिशा-निर्देशों के अनुसार निर्धारित नौ महीने की प्रतीक्षा अवधि से पहले खुराक लेने की अनुमति दी थी।

Popular posts
अग्निपथ के खिलाफ प्रदर्शन उग्र, रेल- मेट्रो सेवाओं पर पड़ा असर; सिंकदराबाद में पुलिस फायरिंग में एक की मौत
Image
यूपी के पांच लाख से ज्यादा युवाओं के लिए गुड न्यूज, दो महीने के भीतर मिलेंगे फ्री टैबलेट और स्मार्टफोन
Image
मुलायम सिंह की छोटी बहू व भाजपा नेता अपर्णा यादव को मिली जान से मारने की धमकी, परिवार में मचा हड़कंप
Image
लखीमपुर खीरी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने दिया रिटायर्ड हाईकोर्ट जजों की निगरानी में केस की जांच कराने का प्रस्ताव
Image
कानपुर के झकरकटी बस अड्डे पर यात्रियों की नहीं हो रही थर्मल स्कैनिंग, जल्दबाजी में दिखा गाइडलाइन का उल्लंघन
Image